Current Affairs Hindi – December 8 2018

हैलो दोस्तों, www.affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 8 दिसंबर ,2018  के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स  को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं । हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी ।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 7 december 2018

राष्ट्रीय समाचार

6 दिसंबर 2018 को कैबिनेट की स्वीकृतियां:Cabinet_decisioni.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन को मंजूरी दे दी। इस निर्णय का लक्ष्य जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में समुचित संशोधन करना है, ताकि न्यासियों के रूप में प्रतिनिधित्व हो सके। संशोधन इस प्रकार है : “लोकसभा में मान्य नेता प्रतिपक्ष या जब नेता प्रतिपक्ष न हो, तब की स्थिति में सदन में सबसे बड़े विपक्षी दल का नेता”। मौजूदा अधिनियम में सबसे बड़े राष्ट्रीय राजनीतिक दल के प्रतिनिधित्व के लिए प्रावधान है। न्यास से दल विशेष के सदस्य को हटाने से न्यास गैर-राजनीतिक हो जाएगा।
ii.प्रधानमंत्री की अध्‍यक्षता में आज हुई केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में कृषि निर्यात नीति 2018 को मंजूरी दी गई। इसके साथ ही इस निति की निगरानी और और क्रियान्‍वयन के लिए नोडल एजेंसी के रूप में वाणिज्‍य मंत्रालय की देखरेख में एक निगरानी फ्रेमवर्क तैयार करने का भी प्रस्‍ताव किया गया जिसमें विभिन्‍न मंत्रालयों/विभागों तथा संबंधित राज्‍यों के प्रतिनिधि होंगे। कृषि नीति के माध्‍यम से कृषि उत्‍पादों के निर्यात को प्रोत्‍साहन मिलेगा जो 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के सरकार के लक्ष्‍य को हासिल करने बड़ी भूमिका निभाएगी। नयी नीति के माध्‍यम से कृषि उत्‍पादों का निर्यात दोगुना करने में भी मदद मिलेगी और भारतीय किसान और उनके उत्‍पाद वैश्‍विक मूल्‍य श्रृंखला का हिस्‍सा बन सकेंगे।
iii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज राबी नदी पर शाहपुरकंडी डैम,पंजाब को लागू करने की मंजूरी दी है। इसके लिए 2018-19 से 2022-23 की पांच वर्षों की अवधि के दौरान 485. 38 करोड़ रुपये (सिंचाई घटक के लिए) की केंद्रीय सहायता उपलब्‍ध कराई जाएगी। इस परियोजना के कार्यान्‍वयन से राबी नदी के जल की मात्रा में कमी लाने में सहायता मिलेगी जो वर्तमान में माधोपुर हेडवर्क्‍स से होते हुए पाकिस्‍तान चली जाती है। परियोजना के पूरा होने पर पंजाब राज्‍य में 5000 हेक्‍टेयर और जम्‍मू-कश्‍मीर में 32,173 हेक्‍टेयर भूमि पर सिंचाई की सुविधा प्राप्‍त होगी। शाहपुरकंडी डैम परियोजना के लिए वर्तमान की 99 पीएमकेएसवाई-एआईबीपी परियोजनाओं के समान नाबार्ड के माध्‍यम से केंद्रीय सहायता प्रदान की जाएगी। केंद्रीय जल आयोग की वर्तमान निगरानी व्‍यवस्‍था के अतिरिक्‍त केंद्रीय जल आयोग के सदस्‍य की अध्‍यक्षता में एक समिति का गठन किया जाएगा। परियोजना की कार्यान्‍वयन की निगरानी करने के लिए गठित की जाने वाली इस समिति में पंजाब और जम्‍मू-कश्‍मीर के चीफ इंजीनियर और संबंधित अधिकारियों को शामिल किया जाएगा।
iv.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने आज बहुविषयक साइबर-फिजिकल प्रणालियों के राष्ट्रीय मिशन (एनएम-आईसीपीएस) को मंजूरी दे दी। इसे पांच सालों के लिए 3600 करोड़ रुपये की कुल लागत के साथ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग लागू करेगा। इस मिशन के तहत समाज की बढ़ती प्रौद्योगिकी जरूरतों को पूरा किया जाएगा और वह अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों के लिए अग्रणी देशों के अंतर्राष्ट्रीय रूझानों तथा रोडमैप का जायजा लेगा।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडलीय आर्थिक समिति ने सिद्धांत रूप से ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) में भारत सरकार की 52.63 प्रतिशत हिस्सेदारी की रणनीतिक बिक्री विद्युत वित्त निगम (पीएफसी) को प्रबंधन नियंत्रण के साथ करने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इस अधिग्रहण का उद्देश्य विद्युत श्रृंखला को एकीकृत करना, बेहतर तालमेल बनाना, व्यापक आर्थिक आकार का सृजन और वित्त विद्युत क्षेत्र की क्षमता में सुधार करके ऊर्जा पहुंच और सक्षमता के लिए क्षमता में वृद्धि करना है।

6 दिसंबर, 2018 को दुसरे देशो के साथ कैबिनेट की स्वीकृतियां:Cabinet Approvals with Foreign Countries on December 6, 2018i.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और जापान के बीच सहयोग ज्ञापन को कार्योत्तर मंजूरी दी है। इस सहयोग ज्ञापन पर 29 अक्टूबर 2018 को भारतीय प्रधानमंत्री की जापान यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किए गए थे। यह सहयोग ज्ञापन प्रत्येक देश के उपयुक्त कानूनों और कानूनी प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए समानता, पारस्परिकता और आपसी लाभ के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच नजदीकी और दीर्घकालिक सहयोग स्थापित करने और प्रोत्साहित करने को सक्षम करेगा।
ii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने डाक क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और जापान के बीच सहयोग-समझौते को मंजूरी दे दी। इस सहयोग समझौते के तहत दोनों देशों के बीच डाक सेवाओं में सुधार होगा और डाक क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा। इस सहयोग समझौते के तहत भारत और जापान के बीच डाक सेवाओं में सुधार होगा और डाक क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा:
-डाक नीति के संबंध में दोनों पक्ष अपने अनुभवों के आधार पर सूचनाएं साझा करेंगे और नजरियों का आदान-प्रदान करेंगे।
-सहयोगी रिश्ते बढ़ाने के लिए चर्चा को प्रोत्साहन।
-दोनों पक्षों द्वारा आपस में तय किए जाने वाले विशेष क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए डाक सेवा संवाद की स्थापना।
iii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज स्‍वास्‍थ्‍य व आरोग्‍य के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच 29 अक्‍टूबर, 2018 को हस्‍ताक्षर हुए सहयोग-ज्ञापन (एमओसी) को मंजूरी दे दी। ज्ञापन में सहयोग के निम्‍न क्षेत्रों को शामिल किया गया है :
-विशेष परियोजनाओं को प्रोत्‍साहन
-दवा, शल्‍य चिकित्‍सा और आघात (ट्रॉमा) देखभाल के क्षेत्र में मानव संसाधन का विकास
-क्लिनिक परीक्षण के लिए अत्‍याधुनिक परीक्षण प्रयोगशाला का निर्माण
-देखभाल करने वाले प्रशिक्षुओं के लिए जापानी भाषा शिक्षा केंद्र की स्‍थापना
iv.प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में आज हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में भारतीय वित्‍तीय खुफिया इकाइयों (एफआईयू -इंडिया) और विदेशी वित्‍तीय खुफिया इकाइयों (एफआईयू) के बीच सूचनाएं साझा करने के लिए समझौता ज्ञापन के संशोधित मॉडल को मंजूरी दे दी है। संशोधित मॉडल का मसौदा एगमोंट समूह सचिवालय के संशोधित समझौता ज्ञापन 2014 पर आधारित है।
v.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को पृथ्वी विज्ञान में वैज्ञानिक तथा तकनीकी सहयोग पर भारत तथा अमेरिका के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। इस समझौता पर एक नवम्बर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे। भारत और अमेरिका के बीच सहयोग से दोनों देशों के संगठनों के पास उपलब्ध विशेषज्ञता साझा करने में मदद मिलेगी और पृथ्वी विज्ञान के क्षेत्र में अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी अपनाई जा सकेगी।
vi.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को ऊर्जा सक्षमता/ ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में भारत तथा फ्रांस के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। इस समझौता पर 17 अक्टूबर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे। समझौता ज्ञापन विज्ञान और प्रौद्योगिकी समझौता है, जिसमें केवल तकनीकी सहायता में ज्ञान का आदान-प्रदान और सहयोग शामिल है। यह समझौता ज्ञापन ऊर्जा सक्षमता बढ़ाने तथा मांग प्रबंधन से संबंधित नीतियों, कार्यक्रमों और टेक्नोलॉजी पर सूचना के आदान-प्रदान को प्रोत्साहित करेगा।
vii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए भारत तथा ताजीकिस्तान के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। इस समझौता पर दूशानबे में 8 अक्टूबर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे। यह समझौता पृथ्वी के दूर संवेदी, सेटेलाइट संचार, सेटेलाइट आधारित नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रणालियों और ग्राउंड सिस्टम, अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी ऐप्लीकेशन सहित अंतरिक्ष विज्ञान टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशनों में सहयोग की संभावनाओं में सहायक होगा। इस समझौता से एक संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो इस समझौता को लागू करने की समय सीमा और उपायों सहित एक कार्य योजना तैयार करेगा। कार्य समूह में डीओएस/ इसरो तथा ताजीकिस्तान गणराज्य की लैंड मैनेजमैंट तथा जियोडेसी स्टेट कमेटी के सदस्य होंगे।
viii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम के अंतर्गत भारत और रूस के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। इस समझौता ज्ञापन पर नई दिल्ली में 15 अक्टूबर, 2015 को हस्ताक्षर किया गया था। समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर से भारत और रूस के बीच सहयोग मजबूत होगा और रेडियेशन शिल्डिंग, लाइफ स्पोर्ट सिस्टम, क्रू मॉड्यूल, समागम स्थल तथा डॉकिंग प्रणाली, अंतरिक्ष कक्ष, अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रशिक्षण जैसे मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम के लिए टेक्नोलॉजी तथा अग्रिम प्रणालियां विकसित करने के काम को गति मिलेगी।
ix.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने भूगर्भ, खनन और खनिज संसाधनों के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत जिम्बाब्वे के बीच समझौते को पूर्व-प्रभाव से अपनी मंजूरी दे दी है। इस समझौते पर जिम्बाब्वे के हरारे में 3 नवंबर, 2018 को हस्ताक्षर किये गये थे। संसाधनों, कानूनों और नीतियों पर आधारित जानकारी का आदान-प्रदान करना, विकास से जुड़ी रणनीतियों पर विचारों के आदान-प्रदान के लिए विचारगोष्ठियां आयोजित करना, दोनों पक्षों के बीच प्रौद्योगियों के हस्तांतरण को बढ़ावा देना, खनन क्षेत्र में मूल्य संवर्धन को बढ़ावा देना और निवेश के अवसर तैयार करना इस समझौते के उद्देश्य हैं।
x.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को बाह्य अंतरिक्ष की खोज तथा शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए बाह्य अंतरिक्ष के उपयोग में सहयोग पर भारत तथा उज्बेकिस्तान के बीच समझौता के बारे में अवगत कराया गया। इस समझौता पर 1 अक्टूबर, 2018 को नई दिल्ली में उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किया गया था।
xi.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए भारत तथा मोरक्को के बीच समझौता से अवगत कराया गया। इस समझौता पर बेंगलुरू में 19 सितम्बर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे। यह समझौता पृथ्वी के दूर संवेदी, सेटेलाइट संचार, सेटेलाइट आधारित नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रणालियों और ग्राउंड सिस्टम, अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी ऐप्लीकेशन सहितअंतरिक्ष विज्ञान टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशनों में सहयोग की संभावनाओं में सहायक होगा। इस समझौता से एक संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो इस समझौता को लागू करने की समय सीमा और उपायों सहित एक कार्य योजना तैयार करेगा। कार्य समूह में डीओएस/ इसरो तथा रॉयल सेंटर फॉर रिमोट सेंसिंग (सीआरटीएस) तथा रॉयल सेंटर फॉर स्पेस रिसर्च एंड स्टडीज (सीआरईआरएस) के सदस्य होंगे।
xii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को अंतरिक्ष विज्ञान, टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशन के क्षेत्र में सहयोग पर भारत तथा अल्जीरिया के बीच समझौता से अवगत कराया गया। इस समझौता पर बेंगलुरू में 19 सितम्बर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे। यह समझौता पृथ्वी के दूर संवेदी, सेटेलाइट संचार, सेटेलाइट आधारित नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रणालियों और ग्राउंड सिस्टम, अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी ऐप्लीकेशन सहितअंतरिक्ष विज्ञान टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशनों में सहयोग की संभावनाओं में सहायक होगा। इस समझौता से एक संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो इस समझौता को लागू करने की समय सीमा और उपायों सहित एक कार्य योजना तैयार करेगा। कार्य समूह में डीओएस/ आईएसआरक्यू तथा अल्जीरिया की अंतरिक्षएजेंसी (एएसएएल) के सदस्य होंगे।
xiii.प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को संयुक्त डाक टिकट जारी करने के बारे में भारत और आर्मेनिया के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। समझौता ज्ञापन पर जून, 2018 में हस्ताक्षर किए गए थे। समझौता ज्ञापन के अनुसार संचार मंत्रालय का डाक विभाग और आर्मेनिया का राष्ट्रीय डाक संचालक (‘हे पोस्ट’ सीजेएससी) पारस्परिक रूप से नृत्य विषय पर संयुक्त डाक टिकट जारी करने पर सहमत हुए हैं। संयुक्त डाक टिकट अगस्त, 2018 में जारी किए गए थे।

आईसीएआर के कृषि प्रौद्योगिकी सूचना केंद्र (एटीआईसी) में पुसा ‘किसान हाट’ की नीव केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह द्वारा रखी गई:Foundation stone of PUSA ‘Kisan Haat’ in ICAR’s Agriculture Technology Information Centre (ATIC) was laid by Union Agriculture & Farmers Welfare Minister Shri Radha Mohan Singhi.6 दिसंबर 2018 को, केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने नई दिल्ली में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) कृषि प्रौद्योगिकी सूचना केंद्र (एटीआईसी) में पुसा किसान हाट की नीव रखी।
ii.पुसा किसान हाट 2.5 एकड़ में बनाया जाएगा जिसमें 3 मीटर x 3 मीटर के 60 स्टाल होंगे जहां किसान अपने कृषि उत्पादों को बेच सकते हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने भारत की पहली गवाह संरक्षण योजना 2018 के केंद्र के मसौदे को मंजूरी दी:
i.5 दिसंबर, 2018 को, सुप्रीम कोर्ट खंडपीठ के जस्टिस ए के सिकरी और एस अब्दुल नाज़ीर ने गवाह की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए गवाह संरक्षण योजना 2018 के मसौदे को मंजूरी दी,इस योजना का निर्माण गृह मंत्रालय ने किया।
ii.मसौदे को तत्काल प्रभाव से सभी राज्यों में लागू करने के लिए कहा गया है।
iii.मसौदा गवाह संरक्षण योजना, राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (एनएएलएसए) और ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (बीपीआरडी) के परामर्श से अंतिम रूप देने के लिए, खतरे की धारणा के आधार पर गवाहों की तीन श्रेणियां हैं।
श्रेणी ए: उन मामलों में जहां खतरे जांच, परीक्षण या उसके बाद भी गवाह या परिवार के सदस्यों के जीवन में दहशत फैली हुई है।
श्रेणी बी: ​​उन मामलों में जहां खतरे जांच या परीक्षण के दौरान गवाह या परिवार के सदस्यों की सुरक्षा, प्रतिष्ठा या संपत्ति तक दहशत फैली हुई है।
श्रेणी सी: मामले जहां खतरे मध्यम है और जांच, परीक्षण या उसके बाद गवाह या उसके परिवार के सदस्यों, प्रतिष्ठा या संपत्ति पर उत्पीड़न या धमकी बनी हुई है।
iv.सुरक्षा उपाय खतरे के समान होंगे और एक समय में तीन महीने से अधिक की अवधि के लिए नहीं होंगे।
v. यह प्रस्ताव निम्नलिखित है:
-गवाह की पहचान को गुप्त रखने के लिए,
-विशेष रूप से डिज़ाइन की गई अदालतों में कैमरे के सामने सुनवाई करें जहां गवाह आरोपी के आमने-सामने नहीं आते हैं
-जीवन के लिए खतरों के चरम मामलों में गवाहों की सुरक्षा और स्थानांतरण सुनिश्चित करें।
vi.योजना के तहत, आवेदन एक सक्षम जिला प्राधिकरण द्वारा निपटाया जाएगा जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं:
-जिला और सत्र न्यायाधीश अध्यक्ष के रूप में,
-पुलिस के मुखिया के रूप में और
-सदस्य सचिव के रूप में अभियोजन पक्ष के प्रमुख।
vii.स्थानीय पुलिस द्वारा खतरे की धारणा के आकलन के साथ पांच दिनों में आवेदन का निपटारा किया जाएगा।
viii.गवाह की सुरक्षा में किए गए खर्चों को सहन करने के लिए एक गवाह संरक्षण निधि भी होगी।
गृह मंत्रालय:
♦ केंद्रीय मंत्री: श्रीमान राजनाथ सिंह
♦ राज्य मंत्री: श्रीमान किरेन रिजजू, श्रीमान हंसराज गंगाराम अहिर

केंद्र ने तस्करी से निपटने के लिए एसकॉर्ड को मंजूरी दी:
i.केंद्र सरकार ने स्मगलिंग से निपटने के लिए राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के तहत एंटी-स्मगलिंग नेशनल कोऑर्डिनेशन सेंटर (एसकॉर्ड) को मंजूरी दी है।
ii.एसकॉर्ड वास्तविक समय के आधार पर स्मगलिंग से निपटने के लिए भारत को राष्ट्रीय विरोधी तस्करी नीति तैयार करने में मदद करेगा।
iii.सीमा एजेंसियां ​​बीएसएफ, असम राइफल्स, आईटीबीपी, एसएसबी और कोस्ट गार्ड्स एसकॉर्ड के सदस्य होंगे और सभी संगठन वास्तविक समय के आधार पर एक-दूसरे के साथ समन्वय करेंगे।

तीन दिवसीय वार्षिक जल प्रभाव शिखर सम्मेलन-2018 नई दिल्ली में आयोजित हुआ:India Water Impact Summit-2018 held in New Delhii.5 दिसंबर, 2018 को केंद्रीय जल संसाधन मंत्री, नदी विकास और गंगा कायाकल्प श्री नितिन गडकरी ने नई दिल्ली में 3 दिवसीय वार्षिक भारत जल प्रभाव शिखर सम्मेलन 2018 का उद्घाटन किया। यह 7 दिसंबर, 2018 को समाप्त हुआ।
ii.इस सम्मेलन उद्देश्य देश में सबसे बड़ी जल संबंधी समस्याओं के लिए मॉडल समाधानों पर चर्चा, बहस और विकास करना हैं।
iii.इसे संयुक्त रूप से निम्नलिखित द्वारा व्यवस्थित किया गया:
-राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन और
-गंगा नदी बेसिन प्रबंधन और अध्ययन केंद्र।
iv.2018 संस्करण के लिए वह विषय था: ‘गंगा कायाकल्प पर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के प्रभावों को प्रदर्शित करना और बढ़ाना।’
v.शिखर सम्मेलन में 3 पहलू या विषय निम्नलिखित थे:
-उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और बिहार के 5 राज्यों पर गंगा को फिर से जीवंत करने के उनके प्रयासों के लिए स्पॉटलाइट्स।
-गंगा फाइनेंसिंग फोरम का परिचय एक सामान्य ज्ञान, सूचना और साझेदारी मंच के रूप में कार्य करने के लिए। यह एक हाइब्रिड एन्युइटी मॉडल है जिसका उपयोग भारत में पानी और अपशिष्ट जल उपचार के आर्थिक परिदृश्य को बढ़ाने के लिए किया जाएगा।
-यह नमामी गंगे कार्यक्रमों में दिलचस्पी रखने वाले वित्तीय संस्थानों और निवेशकों को एक साथ लाएगा।
-पायलट/प्रदर्शन कार्यक्रम के कार्यान्वयन, जिसे पर्यावरण प्रौद्योगिकी सत्यापन (ईटीवी) प्रक्रिया के रूप में जाना जाता है, नदी बेसिन में प्रचलित समस्याओं को -संबोधित करने वाली प्रौद्योगिकी और नवाचार कंपनियों के समाधान जमा करने में सक्षम बनाता है।
vi.इसके अलावा, सत्र निम्नलिखित थे:
-वनीकरण और जैव विविधता, शहरी नदी / जल प्रबंधन योजनाएं,
– गंगा कायाकल्प कार्यक्रम वित्तपोषण के लिए एक वैश्विक पारिस्थितिकी तंत्र बनाना।
vii.लगभग 15 देशों के लगभग 200 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय प्रतिभागियों और 50 से अधिक केंद्रीय, राज्य और नगर निगम के प्रतिनिधियों ने शिखर सम्मेलन में भाग लिया।
स्वच्छ गंगा (एनएमसीजी) के लिए राष्ट्रीय मिशन:
♦ महानिदेशक: श्री राजीव रंजन मिश्रा।
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली।

नई दिल्ली में दो दिवसीय क्षेत्रीय सीमा शुल्क प्रवर्तन बैठक (आरसीईएम) आयोजित हुई:
i.4 दिसंबर और 5 दिसंबर 2018 को, राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने नई दिल्ली में डॉ अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय केंद्र में आयोजित 2 दिन क्षेत्रीय सीमा शुल्क प्रवर्तन बैठक (आरसीईएम) का समापन किया। 4 दिसंबर को, राजस्व आसूचना (डीआरआई) और तस्करी विरोधी आसूचना निदेशालय तथा केंद्रीय अप्रत्‍यक्ष कर और सीमा शुल्‍क बोर्ड (सीबीआईसी) ने 61 वें स्‍थापना दिवस का आयोजन किया।
ii.बैठक में दवाओं, कीमती धातुओं और पत्थरों, मनी लॉंडरिंग और काले अर्थव्यवस्था से संबंधित अपराधों का मुकाबला करने के लिए आपसी रणनीति के बारे में व्यापक चर्चाएं आयोजित की गईं।
iii.केंद्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली आरसीईएम के मुख्य अतिथि रहे। कार्यक्रम के दौरान श्री जेटली ने अपर आयुक्‍त सीमा शुल्‍क एवं उत्‍पाद शुल्‍क स्‍वर्गीय श्री एल डी अरोड़ा को डीआरआई के शहीद पदक से सम्‍मानित किया। स्‍वर्गीय श्री अरोड़ा 1993 के मुंबई विस्‍फोट के जिम्‍मेदार अंडरवर्ल्‍ड के खिलाफ कार्रवाई करते हुए शहीद हो गए थे। उन्‍होंने अनुकरणीय सेवा के लिए अपने पूर्व अधिकारियों को डीआरआई उत्कृष्‍ट सेवा सम्मान से सम्मानित करने की पहल की प्रशंसा की।
iv.बैठक के दौरान, कस्टम प्रशासन के बीच डेटा और खुफिया जानकारी साझा करने पर जोर दिया गया।

अप्रैल, 2019 से उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेटों के साथ नए वाहनों को प्री-फिट किया जाएगा:
i.सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन अधिसूचित किया और घोषणा की हैं कि सभी नए वाहनों को 1 अप्रैल 2019 से उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेटों के साथ पहले से बेचा जाएगा।
ii.उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेट वाहन का ट्रैक रखने में मदद करती है ताकि गुम या चोरी किए गए वाहनों का पता लगाया जा सकेगा।

आईडब्ल्यूएआई ने कोलकाता-पटना को भारत के दूसरे कंटेनर कार्गो सेक्टर के रूप में घोषित किया और शिपिंग मंत्रालय ने वाराणसी में 156 करोड़ रुपये का फ्रेट गांव मंजूर किया:
i.6 दिसंबर 2018 को, शिपिंग मंत्रालय ने गंगा नदी में अंतर्देशीय जलमार्ग टर्मिनल के आस-पास वाराणसी में 156 करोड़ के फ्रेट गांव को मंजूरी दी,इसके अलावा कोलकाता-पटना राष्ट्रीय जलमार्ग -1 पर कंटेनरयुक्त कार्गो के लिए भारत का दूसरा अंतर्देशीय जल परिवहन मूल गंतव्य बन गया है।
प्रमुख बिंदु
ii.नौवहन से 5369 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर विश्व बैंक की सहायता से हल्दिया से वाराणसी तक जल मार्ग विकास परियोजना (जेएमवीपी) के तहत गंगा नदी पर 1390 किलोमीटर राष्ट्रीय जलमार्ग-1 विकास कर रहा है।
iii.वाराणसी फ्रेट गांव एक निर्दिष्ट क्षेत्र है जहां परिवहन के विभिन्न साधनों, माल के वितरण और अन्य रसद संचालन के लिए सुविधाएं एक बड़े पैमाने पर सिंक्रनाइज़ तरीके से उपलब्ध होंगी।
iv.बिहार कैपिटल पटना भारत के अंतर्देशीय जल परिवहन (आईडब्ल्यूटी) क्षेत्र में खाद्य बाजारों के कंटेनर कार्गो के 16 टीईयू के साथ एक नए स्थलचिह्न के साक्षी होंगे, पेप्सिको इंडिया और इमामी एग्रोटेक लिमिटेड गंगा नदी पर कोलकाता से गाईघाट आईडब्ल्यूटी टर्मिनल तक पहुंच रहे हैं।
नौवहन मंत्रालय
♦ केंद्रीय मंत्री: नितिन गडकरी
♦ राज्य मंत्री: पोन राधाकृष्णन और मनसुख एल.मंडविया
उत्तर प्रदेश:
♦ गवर्नर: राम नायक
♦ मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ
♦ बांध: रिहांद (रिहांद नदी, सोन नदी की एक सहायक)
बिहार
♦ गवर्नर: लाल जी टंडन
♦ मुख्यमंत्री: नीतीश कुमार
♦ बांध: कोहिरा बांध (कोहिरा नदी) और नागी बांध (नागी नदी)

भालू पर चार दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन यूपी में आयोजित हुआ:
i.3 दिसंबर, 2018 को, भालुओं पर चार दिन का पहला अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आगरा, उत्तर प्रदेश में शुरू हुआ। यह 6 दिसंबर, 2018 को समाप्त हुआ।
ii.इस सम्मेलन का उद्देश्य चिड़ियाघर, अभयारण्यों और बचाव केंद्रों में भालू और अन्य जंगली जानवरों के कल्याण के सिद्धांतों पर ज्ञान साझा करना हैं।
iii.यह वन्यजीव एसओएस, अमेरिका और कनाडा से भालू देखभाल समूह के सहयोग से एक संरक्षण गैर-लाभकारी संगठन द्वारा आयोजित किया गया।
iv.सम्मेलन में भालू देखभाल, वन्यजीव संरक्षण और मानव वन्यजीव संघर्ष शमन पर ध्यान केंद्रित किया गया।
v.सम्मेलन में 11 देशों के 80 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया।
vi.अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधि अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, डेमर्क, नीदरलैंड, वियतनाम आदि से आए हैं।
वन्यजीवन एसओएस:
मुख्यालय: नई दिल्ली।

वार्षिक ग्लोबल वेंचर उद्यम पूंजी शिखर सम्मेलन 2018 गोवा में आयोजित हुआ:Global Venture Capital Summit 2018 held in Goai.7 दिसंबर, 2018 को, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय और गोवा सरकार में औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) ने गोवा में वार्षिक स्टार्टअप इंडिया उद्यम पूंजी शिखर सम्मेलन की मेजबानी की।
ii.इस सम्मेलन का उद्देश्य भारत के अवसर को प्रदर्शित करने के लिए, भारतीय स्टार्टअप के लिए पूंजी प्रवाह बढ़ाना और व्यवसाय करने में आसानी को बढ़ावा देना हैं।
iii.शिखर सम्मेलन का विषय था: ‘भारत में अभिनव के लिए वैश्विक पूंजी को संगठित करना’।
iv.विश्व बैंक समूह, निवेश भारत और भारतीय निजी इक्विटी और वेंचर कैपिटल एसोसिएशन (आईवीसीए) की बहन संगठन इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन (आईएफसी) इस पहल के लिए भागीदार थे।
v.संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान, हांगकांग और सिंगापुर जैसे देशों से भागीदारी लगभग 100 फंडों से हुई थी।
vi.गोवा सरकार की भागीदारी के माध्यम से राज्य को भारत में सबसे पसंदीदा स्टार्ट-अप गंतव्यों में से एक बनाना है, और 2025 तक एशिया में शीर्ष 25 स्टार्ट-अप गंतव्यों में से एक बनाना है।
पृष्ठभूमि:
भारत में 14,000 से अधिक मान्यता प्राप्त स्टार्टअप के साथ दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप बेस है।
गोवा:
♦ मुख्यमंत्री: मनोहर पर्रिकर
♦ गवर्नर: श्रीमती मृदुला सिन्हा
♦ वन्यजीव अभयारण्य: कोतिगाओ वन्यजीव अभयारण्य, मेहदी वन्यजीव अभयारण्य, बोंडिया वन्यजीव अभयारण्य, नेत्रवली वन्यजीव अभयारण्य, सलीम अली पक्षी अभयारण्य, भगवान महावीर अभयारण्य

भारतीय तट रक्षक ने पोर्ट ब्लेयर से समुद्र में अभ्यास ‘स्वच्छ सागर-2018’ का आयोजन किया:
i.6 दिसंबर, 2018 को, भारतीय तट रक्षक ने पोर्ट ब्लेयर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह से समुद्र में ‘स्वच्छ सागर – 2018’ नामक क्षेत्रीय स्तर समुद्री तेल प्रदूषण प्रतिक्रिया अभ्यास का आयोजन किया।
ii.यह निम्नलिखित द्वारा आयोजित किया गया
-इंस्पेक्टर जनरल मनीष वी पाठक, कमांडर कोस्ट गार्ड क्षेत्र (अंडमान और निकोबार द्वीप समूह) और
-अंडमान और निकोबार प्रशासन के मुख्य सचिव श्री चेतन बी संघी द्वारा।
iii.अभ्यास में निम्नलिखित ने भाग लिया:
-तटरक्षक जहाज विश्वस्थ, विजिथ, राजवीर, राजश्री,
-4 इंटरसेप्टर नौकाओं और इसकी वायु संपत्ति डोर्नियर और चेतक हेलीकॉप्टर।
भारतीय तट रक्षक:
♦ आदर्श वाक्य: हम रक्षा करते हैं।
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली।
♦ महानिदेशक: श्री राजेंद्र सिंह

अंतरराष्ट्रीय समाचार

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की 2 दिवसीय संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा का अवलोकन:Visit to United Arab Emirates (UAE)i.विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने अबू धाबी में आर्थिक और तकनीकी सहयोग के लिए भारत-संयुक्त अरब अमीरात संयुक्त आयोग की बैठक (जेसीएम) के 12 वें सत्र में भाग लिया।
ii.संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री के साथ ईएएम सुषमा स्वराज, शेख अब्दुल्ला बिन जयद अल नहयान ने अबू धाबी में गांधी-जयद डिजिटल संग्रहालय का सह-उद्घाटन किया।
iii.शारजाह के सुल्तान अतिथि के रूप में दिल्ली बुक फेयर में भाग लेने के लिए नई दिल्ली, भारत का दौरा करेंगे,जो 2019 में होने वाला है।
दोनों देशों के बीच निम्नलिखित एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए थे:

क्र.संख्याएमओयू / समझौते का नामइंडियन साइड से हस्ताक्षरकर्तासंयुक्त अरब अमीरात की ओर से हस्ताक्षरकर्ता
1मुद्रा स्वैप समझौते

(भारतीय रिज़र्व बैंक और संयुक्त अरब अमीरात के सेंट्रल बैंक के बीच)

भारत के राजदूत संयुक्त अरब अमीरात, श्री नवदीप सूरीसंयुक्त अरब अमीरात के सेंट्रल बैंक के डीई गवर्नर
2अफ्रीका में विकास सहयोग पर समझौता ज्ञापन

(इथियोपिया के संघीय लोकतांत्रिक गणराज्य में सूचना प्रौद्योगिकी (सीईआईटी) में उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने के लिए।)

सचिव (आर्थिक संबंध)विदेश मामलों के सहायक मंत्री और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग

भारत दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते शहरों की सूची में शीर्ष दस में:
i.ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स रिपोर्ट के अनुसार, 06 दिसंबर 2018 को, 2019 से 2035 तक दुनिया के शीर्ष 10 सबसे तेजी से बढ़ते शहरों में भारत हैं। गुजरात का सूरत सूची में सबसे ऊपर है उसके बाद उत्तर प्रदेश का आगरा है।
ii.गुजरात के पश्चिमी राज्य में हीरा प्रसंस्करण और व्यापार केंद्र सूरत, 2035 के माध्यम से सबसे तेजी से विस्तार देखेगा, औसत 9 प्रतिशत से अधिक है।
iii.आगरा और बैंगलोर क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं।
iv.2035 तक, एशियाई देशों का सकल घरेलू उत्पाद संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय शहरी केंद्रों की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक होगा।
v.मुंबई को 950 अरब डॉलर की कुल संपत्ति के साथ दुनिया का 12 वां सबसे अमीर शहर माना जाता है और संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और ब्रिटेन के बाद भारत दुनिया का 6 वां सबसे बड़ा धन बाजार (कुल संपत्ति के मामले में) है।
vi.अफ्रीकी शहर में दार एस सलाम का तंजानिया बंदरगाह सबसे तेज़ शहर है, जबकि यूरोप में शीर्ष स्थान आर्मेनियाई राजधानी येरेवन का है, सैन जोस सिलिकॉन वैली के लिए प्रॉक्सी उत्तरी अमेरिका में सर्वश्रेष्ठ है।

भारत ने ईरान के साथ रुपये में कच्चे बिल का भुगतान करने के लिए समझौता किया:India inks pact with Iran to pay crude bill in rupeei.06 दिसंबर 2018 को, भारत ने ईरान के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जो कि फारस की खाड़ी राष्ट्र से आयात में कच्चे तेल का भुगतान करने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।
ii.भारतीय रिफाइनर राष्ट्रीय ईरानी तेल कंपनी (एनआईओसी) के यूसीओ बैंक खाते में रुपये का भुगतान करेंगे। इससे पहले भारत ने यूरोपीय बैंकिंग चैनलों का उपयोग करके यूरो में अपना तीसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता का भुगतान किया था।
iii.इन फंडों में से आधे भारतीय सामानों के निर्यात के लिए ईरान को भुगतान निपटाने के लिए निर्धारित किया जाएगा।
iv.आयात और एस्क्रो भुगतान में कटौती करने के बाद भारत ने अमेरिका से छूट ली है। 180 दिनों की छूट के तहत, भारत को कच्चे तेल के दिन अधिकतम 300,000 बैरल आयात करने की अनुमति है। यह इस साल लगभग 560,000 बैरल के औसत दैनिक आयात की तुलना करता है।
vi.भारत चीन के बाद तीसरा सबसे बड़े तेल उपभोक्ता के बाद  ईरानी तेल का दूसरा सबसे बड़ा खरीदार है।
vii.ईरान इराक और सऊदी अरब के बाद तीसरा सबसे बड़ा सप्लायर है और कुल जरूरतों के लगभग 10 प्रतिशत को पूरा करता है।
ईरान:
♦ राजधानी: तेहरान
♦ मुद्रा: ईरानी रियाल
♦ राष्ट्रपति: हसन रूहानी

भारत दुनिया में कार्बन डाइऑक्साइड का चौथा सबसे बड़ा उत्सर्जक:India is fourth highest emitter of carbon dioxide in the worldi.06 दिसंबर 2018 को ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट के एक अध्ययन के मुताबिक भारत 2017 में कार्बन डाइऑक्साइड का चौथा सबसे ज्यादा उत्सर्जक है, जो 2017 में वैश्विक उत्सर्जन का 7 प्रतिशत है।
ii.शीर्ष 10 उत्सर्जक चीन, अमेरिका, यूरोपीय संघ, भारत, रूस, जापान, जर्मनी, ईरान, सऊदी अरब और दक्षिण कोरिया हैं।
iii.2017 में शीर्ष चार उत्सर्जक, जिसमें वैश्विक उत्सर्जन का 58 प्रतिशत शामिल था, चीन (27 प्रतिशत), यूएस (15 प्रतिशत), यूरोपीय संघ (10 प्रतिशत) और भारत (7 प्रतिशत) थे। शेष विश्व ने योगदान दिया पिछले साल 41 प्रतिशत।
iv.कोयले (7.1 प्रतिशत), तेल (2.9 प्रतिशत) और गैस (6 प्रतिशत) समेत सभी ईंधन में वृद्धि के साथ 2018 में भारत के उत्सर्जन में 6.3 प्रतिशत की औसत वृद्धि दर्ज की गई है।
v.अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण सरकारी हस्तक्षेपों के कारण पिछले दशक में प्रति वर्ष 6 प्रतिशत की तुलना में भारतीय उत्सर्जन 2017 में 2 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान था।
vi.चीन, भारत और यूरोपीय संघ गति ​​स्थापित कर रहे हैं। ये क्षेत्र ग्लोबल कार्बन उत्सर्जन का 40 प्रतिशत प्रतिनिधित्व करते हैं। वे 2015 में पेरिस समझौते के पहले दौर में जो कुछ भी सहमत थे उससे अधिक हासिल करने के लिए तैयार हैं।
vi.2020 तक, भारत अपनी जीवाश्म ईंधन निकास रणनीति और अपने चरम सीओ 2 उत्सर्जन के लिए एक लक्षित तारीख की घोषणा कर सकता है।
पेरिस समझौते के बारे में 2015
i.पेरिस समझौता संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) के भीतर एक समझौता है, जो 2020 में शुरू होने वाले ग्रीन हाउस-गैस उत्सर्जन शमन, अनुकूलन और वित्त से निपटता है।
ii.पेरिस, फ्रांस के पास ले बौर्जेट में यूएनएफसीसीसी की दलों के 21 वें सम्मेलन में 196 राज्य दलों के प्रतिनिधियों ने समझौते की भाषा पर बातचीत की और 12 दिसंबर 2015 को सर्वसम्मति से अपनाया।
iii.पेरिस समझौते का दीर्घकालिक लक्ष्य वैश्विक औसत तापमान में वृद्धि को पूर्व-औद्योगिक स्तर से 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे रखना है और 1.5 डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि को सीमित करना है, क्योंकि इससे जलवायु परिवर्तन के जोखिम और प्रभाव में काफी कमी आएगी।

पनामा राष्ट्र बेल्ट और रोड पहल में शामिल होने वाला पहला लैटिन अमेरिकी:
i.रणनीतिक केंद्रीय अमेरिकी राष्ट्र, पनामा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की यात्रा के बाद पनामा में चीन के महत्वाकांक्षी बेल्ट और रोड इनिशिएट में शामिल होने वाला पहला लैटिन अमेरिकी देश बन गया।
ii.चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और उनके पैनामेनियन समकक्ष जुआन कार्लोस वेरेला ने 3 दिसंबर को द्विपक्षीय बैठक के दौरान 19 अलग-अलग सौदे किए।

बैंकिंग और वित्त

एडीबी ने सह-वित्त पोषित परियोजनाओं के लिए विश्व बैंक के साथ एक व्यवस्था में प्रवेश किया:
i.06 दिसंबर 2018 को, एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने विश्व बैंक के साथ एक एकल ढांचा के लिए एक व्यवस्था में प्रवेश किया है जो सह-वित्त पोषित परियोजनाओं को और अधिक कुशल बना देगा।
ii.विश्व बैंक के साथ एडीबी की पहली वैकल्पिक खरीद व्यवस्था (एपीए) सह-वित्त पोषित परियोजनाओं पर प्रक्रियाओं को एकल खरीद ढांचे का पालन करने की अनुमति देगी।
iii.एपीए रणनीति 2030 के साथ खरीददारी समय सीमा को कम करने की दिशा में एक कदम आगे है। रणनीति 2030 एशिया और प्रशांत क्षेत्र की बदलती जरूरतों को प्रभावी ढंग से प्रतिक्रिया देने के लिए एडीबी की लंबी अवधि की योजना है।
iv.2017 में, एडीबी परिचालनों में सह-वित्त पोषण में 11.9 बिलियन अमरीकी डालर सहित 32.2 बिलियन अमरीकी डालर का कुल योग हुआ।
v.इससे एजेंसियों को निष्पादित करने और कार्यान्वित करने पर बोझ कम हो जाएगा, जिन्होंने पारंपरिक रूप से एक परियोजना और परियोजना कार्यान्वयन पर कई खरीद ढांचे का उपयोग किया है।
विश्व बैंक
♦ मुख्यालय: वाशिंगटन डीसी, संयुक्त राज्य अमेरिका
♦ अध्यक्ष: जिम योंग किम
एशियाई विकास बैंक
♦ मुख्यालय: मंडलुओंग, फिलीपींस
♦ अध्यक्ष: टेक्हिको नाकाओ

पुरस्कार और सम्मान

आईफोन कलाकार और फिल्म निर्माता शार्लोट प्रोडर ने 2018 टर्नर पुरस्कार जीता:iPhone artist and film maker Charlotte Prodger won the 2018 Turner Awardi.5 दिसंबर, 2018 को, ग्लासगो आधारित कलाकार और फिल्म निर्माता शार्लोट प्रोडर ने ब्रिटेन के लंदन में टेट ब्रिटेन में ब्रिटेन के प्रतिष्ठित समकालीन कला पुरस्कार 2018 टर्नर पुरस्कार को जीता।
ii.44 वर्षीय प्रोडर ने 33 मिनट की फिल्म ‘ब्रिजिट’ के लिए पुरस्कार को जीता।
iii.उन्हें पुरस्कार के रूप में $31,785 या £25,000 प्राप्त होंगे।
iv.यह पुरस्कार 1984 में आर्ट के संरक्षक नामक समूह द्वारा स्थापित किया गया था।

रतन लाल को ग्लिंका वर्ल्ड मृदा पुरस्कार 2018 से सम्मानित किया गया:
i.06 दिसंबर 2018 को, रतन लाल ने संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) के रोम मुख्यालय में टिकाऊ मिट्टी प्रबंधन में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए एक समारोह में ग्लिंका वर्ल्ड मृदा पुरस्कार 2018 जीता है।
ii.रतन लाल ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी में मिट्टी विज्ञान के एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान संघ (आईयूएसएस) के अध्यक्ष भी हैं।
iii. ग्लिंका वर्ल्ड मृदा पुरस्कार, जिसका नाम अग्रणी रूसी वैज्ञानिक कॉन्स्टेंटिन डी ग्लिंका के नाम पर रखा गया है, को मिट्टी विज्ञान पेशे में सर्वोच्च सम्मान माना जाता है।
iv.पहला विश्व मृदा दिवस पुरस्कार दिसंबर 05 2018 को ‘प्रैक्टिकल एक्शन’, बांग्लादेश को 2017 में सर्वश्रेष्ठ विश्व मृदा दिवस उत्सव आयोजित करने के लिए दिया गया।
v.नया एफएओ-स्थापित पुरस्कार थाईलैंड द्वारा वित्त पोषित किया गया है।
खाद्य और कृषि संगठन:
♦ मुख्यालय: रोम, इटली
♦ अध्यक्ष: जोस ग्राज़ियानो दा सिल्वा

नियुक्तियां और इस्तीफे

5 साल की अवधि के लिए अतुल सहाई को न्यू इंडिया एश्योरेंस का सीएमडी नियुक्त किया गया:
i.04 दिसंबर 2018 को, सरकार ने घोषणा की कि जी श्रीनिवासन की जगह पांच साल की अवधि के लिए अतुल सहाई को न्यू इंडिया एश्योरेंस (एनआईए) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक के रूप में नियुक्त किया जाएगा।
ii.अतुल सहाई वर्तमान में ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी प्राइवेट लिमिटेड में महाप्रबंधक हैं।
iii.न्यू इंडिया एश्योरेंस , देश के सबसे बड़े सामान्य बीमाकर्ता, ने सितंबर 2018 तिमाही के लिए 3.28 अरब रुपये के शुद्ध लाभ में 56 प्रतिशत सालाना (योई) गिरावट दर्ज की।
iv.सहाई 1984 में एनआईए में शामिल हो गए थे और 2022 में सेवानिवृत्त होंगे। वह डीजीएम के रूप में पदोन्नत होने के बाद 2012 में ओआईसी में चले गए थे।
न्यू इंडिया इंश्योरेंस
♦ मुख्यालय: मुंबई
♦ सीएमडी: अतुल सहाई
ओरिएंटल  इंश्योरेंस कंपनी
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ सीएमडी: ए वी गिरिजा कुमार

खेल 

इटली ने भारतीय नौसेना अकादमी (आईएनए), एझिमाला में एटिकुलम बीच में आयोजित इंटरनेशनल एडमिरल कप रेगट्टा 2018 का नौवां संस्करण जीता:
i.06 दिसंबर 2018 को, इटली ने अंतर्राष्ट्रीय नौसेना के कप रेगट्टा 2018 का नौवां संस्करण जीता, जिसमें भारतीय नौसेना अकादमी (आईएनए), एझिमाला में एटिकुलम बीच में आयोजित सभी दौड़ों में लगातार प्रदर्शन हुआ।
ii.सिंगापुर उपविजेता रहा और मौजूदा चैंपियन यूएसए तीसरे स्थान पर आया।
iii.मेजबान आईएनए समग्र स्थिति में चौथे स्थान पर रहा।
iv.टीम इटली का मिडशिपमैन विन्सेंज़ो रोक्को और मिडशिपमैन अल्बर्टो कैब्रास द्वारा प्रतिनिधित्व किया गया।
v.वाइस एडमिरल आरबी पंडित, एवीएसएम, कमांडेंट, आईएनए समापन समारोह के लिए मुख्य अतिथि हैं।
एडमिरल कप रेगट्टा 2018 :
♦ यह 02 दिसंबर से 06 दिसंबर 2018 तक एटिकुलम बे में आयोजित किया गया था। रेगट्टा नौका नौकाओं के लेजर (रेडियल) वर्ग में प्रतिस्पर्धा करने वाले 31 विदेशी नौसेना अकादमियों की टीमों ने भागीदारी की।
♦ बुल्गारिया ने इस टूर्नामेंट में पहली बार भाग लिया।
♦ आईएनए वाइस एडमिरल आरबी पंडित, एवीएसएम ने एटिकुलम बे पर एक प्रभावशाली समारोह में इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया।
भारतीय नौसेना अकादमी
♦ स्थान: एझिमाला, कन्नूर, केरल, भारत
♦ कमांडेंट: वाइस एडमिरल आरबी पंडित

निधन

पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन तैराक अरुण कुमार शॉ का निधन हुआ:
i.6 दिसंबर 2018 को, 80 वर्षीय सात बार राष्ट्रीय चैंपियन और बंगाल से अर्जुन पुरस्कार जीतने वाले पहले तैराक अरुण कुमार शॉ का कोलकाता में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया।
ii.उन्होंने 1959, 1962, 1964, 1965-67 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप जीती और कई वर्षों तक राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में काम किया।

वरिष्ठ कांग्रेस सांसद मोहम्मद असरुल हक का 76 वर्ष की आयु में निधन हो गया:
i.7 दिसंबर, 2018 को, वरिष्ठ कांग्रेस सांसद मोहम्मद असरुल हक का 76 पर निधन हो गया।
ii.वह भारत में एक अग्रणी इस्लामी संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राज्य अध्यक्ष थे।
iii.वह अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और ऑल इंडिया मिली काउंसिल के अध्यक्ष भी थे।
iv.इससे पहले, उन्होंने 2009 और 2014 के आम चुनावों में बिहार के किशनगंज निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था।

महत्वपूर्ण दिन

भारतीय सशस्त्र बल ध्वज दिवस 07 दिसंबर को मनाया गया:
i.07 दिसंबर 2018 को, भारतीय सशस्त्र सेना ध्वज दिवस पूरे देश में शहीदों के साथ-साथ सैनिकों का सम्मान करने के लिए मनाया गया था जो दुश्मन से देश की रक्षा के लिए हमारी सीमाओं पर बहादुरी से लड़ते हैं।
ii.1949 से, 07 दिसंबर को भारतीय सशस्त्र बलों के ध्वज दिवस के रूप में मनाया जाता है और भारत सरकार ने भूतपूर्व सैनिकों (ईएसएम) के कल्याण और पुनर्वास के लिए ‘सशस्त्र सेना ध्वज दिवस कोष’ गठित किया है।

अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस 7 दिसंबर को मनाया गया:International Civil Aviation Dayi.हर साल 07 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस के रूप में मनाया जाता है। वार्षिक उत्सव का उद्देश्य राज्यों के सामाजिक और आर्थिक विकास में अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन के महत्व के बारे में विश्वव्यापी जागरूकता को पैदा करना और मजबूत करना है।
ii.इस साल अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस के लिए विषय है: ‘यह सुनिश्चित करने के लिए एक साथ काम करना कि कोई देश पीछे नहीं है’।
पृष्ठभूमि
i.यह विषय 2016-2018 आईसीएओ ट्राइनियम के आवर्ती आधार पर स्थापित किया गया था ताकि लोगों के जीवन में सुधार के लिए वायु कनेक्टिविटी की विशाल परिवर्तनकारी शक्ति को उजागर किया जा सके।
ii.अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस की स्थापना आईसीएओ की 50 वीं वर्षगांठ गतिविधियों के हिस्से के रूप में 1994 में हुई थी।
iii.1944 में, शिकागो में इकट्ठे 54 देशों के प्रतिभागियों ने अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन पर सम्मेलन पर हस्ताक्षर किए थे, जिसे ‘शिकागो कन्वेंशन’ के रूप में भी जाना जाता है। तब से, परिभाषित अंतर्राष्ट्रीय समझौते ने वैश्विक नागरिक उड्डयन प्रणाली को दुनिया भर के सभी देशों को लाभान्वित तरीके से शांतिपूर्वक विकसित करने की अनुमति दी है।
iv.यह आधिकारिक तौर पर 1996 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित किया गया था।
अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन:
♦ मुख्यालय: मॉन्ट्रियल, कनाडा
♦ महासचिव: फेंग लियू