Current Affairs Hindi – February 2 2019

हैलो दोस्तों, www.affairscloud.com में आपका स्वागत है। हम यहां आपके लिए 2 फरवरी ,2019  के महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स  को विभिन्न अख़बारों जैसे द हिंदू, द इकोनॉमिक टाइम्स, पीआईबी, टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडिया टुडे, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड,जागरण से चुन करके एक अनूठे रूप में पेश करते हैं। हमारे Current Affairs से आपको बैंकिंग, बीमा, यूपीएससी, एसएससी, सीएलएटी, रेलवे और अन्य सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Click here to Read Current Affairs Today in Hindi – 1 February 2019Current Affairs February 2 2019

राष्ट्रीय समाचार

अंतरिम बजट 2019:Interim Budget 2019 Highlights 1i.केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने 1 फरवरी 2019 को संसद में 2019 के लिए अंतरिम बजट पेश किया। एक अंतरिम बजट आमतौर पर नई योजनाओं को सूचीबद्ध नहीं करता है या कोई नीतिगत उपायों का खुलासा नहीं करता है। सरकार अगले चार से पांच महीनों के लिए वोट पेश करेगी। आम चुनाव के बाद सदन के फिर से पेश होने के बाद एक पूर्ण बजट पेश किया जाएगा।
ii.भारत अगले पांच वर्षों में USD 5-ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बन जाएगा और अगले 8 वर्षों में USD 10-ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनने की इच्छा रखता है
-2018/19 के लिए राजकोषीय घाटा जीडीपी के 3.4% पर देखा गया
-वित्त वर्ष 20 में कुल खर्च 27.84 ट्रिलियन रुपये पर आँका गया
-वित्त वर्ष 20 में पूंजीगत व्यय, 3,36,292 करोड़ रुपये पर आँका गया
-केंद्रीय योजनाओं को वित्त वर्ष 20 में 3,27,679 करोड़ प्राप्त होंगे
-दिवालियापन कोड के माध्यम से 3 लाख करोड़ से अधिक की वसूली की गई
-2018/19 के लिए चालू खाता घाटा जीडीपी के 2.5% पर देखा गया
-बैंक ऑफ़ इंडिया, बैंक ऑफ़ महाराष्ट्र और ओरिएंटल बैंक आरबीआई की त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई के तहत नहीं हैं
प्रत्यक्ष कर प्रस्ताव:
-5 लाख रुपये तक की सालाना कर योग्‍य आमदनी वाले व्‍यक्तिगत करदाताओं को अब कोई आयकर नहीं देना होगा। जिन लोगों की कुल आमदनी 6.50 लाख रुपये तक है, उन्‍हें भी किसी प्रकार के आयकर के भुगतान की जरूरत नहीं पड़ेगी, यदि वे भविष्‍य निधि, विशेष बचतों, बीमा आदि में निवेश कर लेते हैं
-मध्‍यम वर्ग के करीब 3 करोड़ करदाताओं को करों में 18,500 करोड़ रुपये का लाभ मिलेगा।
-वेतनभोगियों के लिए मानक कटौती की राशि को मौजूदा 40,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये की जा रही है।
-बैंक/डाकघर बचतों पर अर्जित ब्‍याज के स्रोत पर कर कटौती को बढ़ाकर 10,000 रुपये से 40,000 रुपये किया जा रहा है।
-रिटर्न की आई-टी प्रोसेसिंग 24 घंटे में की जाएगी।
-अगले 2 वर्षों के भीतर, करदाता के साथ किसी भी इंटरफ़ेस के बिना इलेक्ट्रॉनिक रूप से किए जाने वाले कर रिटर्न का सत्यापन किया जाएगा।
-आयकर की मौजूदा दरें जारी रखी जाएंगी
-अपने कब्‍जे वाले किसी दूसरे घर पर सांकेतिक किराए पर आयकर पर छूट का अब प्रस्‍ताव किया गया है।
हाउसिंग और रियल एस्टेट सेक्टर को बढ़ावा मिलेगा-
-किराये की आय पर टीडीएस की सीमा 1.8 लाख से बढ़कर 2.4 लाख हो गई।
-पूंजीगत लाभ के रोलओवर का लाभ एक आवासीय घर में निवेश से बढ़कर दो तक के पूंजीगत लाभ के लिए दो आवासीय घरों में 2 करोड़ रुपए हुआ।
-आयकर अधिनियम की धारा 80-आईबीए के तहत 31 मार्च, 2020 तक किफायती आवास के लिए कर लाभ।
-विस्तारित अनसोल्ड इन्वेंट्री पर, किराए पर कर छूट की अवधि एक वर्ष से दो वर्ष हुई।

2013-14 में 6.38 लाख करोड़ रुपये से प्रत्यक्ष कर संग्रह लगभग 12 लाख करोड़ रुपये; कर आधार 3.79 करोड़ से 6.85 करोड़ रुपये। बिना किसी जांच के 99.54% रिटर्न स्वीकार किया गया है। जनवरी 2019 में, जीएसटी संग्रह 1 लाख करोड़ रुपये को पार कर गया।

किसान:
-प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत दो हेक्टेयर तक की जोत वाले सभी सीमांत किसान परिवारों को प्रति वर्ष 6000 रुपये की प्रत्यक्ष आय सहायता प्रदान की जाएगी। यह सहायता 2000 रुपये की तीन बराबर किस्तों में लाभार्थी किसान के बैंक में सीधे हस्तांतरित कर दी जाएंगी। इससे 12 करोड़ छोटे और सीमांत किसानों को लाभ मिलने की उम्मीद है। इस कार्यक्रम से 75,000 करोड़ का वार्षिक व्यय होगा।
-राष्ट्रीय गोकुल मिशन के लिए आवंटन को बढ़ाकर 750 करोड़ रुपये किया गया।
-गऊ संसाधनों के अनुवांशिक उन्नयन को स्थायी रूप से बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय कामधेनु आयोग बनाया जाएगा।
-1.5 करोड़ मछुआरों के कल्याण के लिए अलग मत्स्य पालन विभाग।
-पशुपालन और मछली पालन कार्यों में लगे किसानों को 2 प्रतिशत ब्याज सब्सिडी का लाभ, इसके अतिरिक्त ऋण का समय पर भुगतान करने पर उन्हें 3 प्रतिशत अतिरिक्त ब्याज सब्सिडी।
-एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) को सभी 22 फसलों के उत्पादन लागत से 1.5 गुना बढ़ाने का निर्णय लिया गया।

श्रम:
-प्रधान श्रम योगी मानधन योजना में असंगठित श्रेत्र के 10 करोड़ कामगारों के लिए निश्चित मासिक पेंशन। केवल 100/55 रुपये का प्रति माह अंशदान देने पर 60 वर्ष की उम्र के बाद प्रति माह 3000 रुपये की निश्चित मासिक पेंशन। इससे असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ श्रमिकों को लाभ होगा और पाँच वर्षों में असंगठित क्षेत्र के लिए दुनिया की सबसे बड़ी पेंशन योजना बन जाएगी।
-नई पेंशन योजना (एनपीएस) को 1 अप्रैल, 2019 से 10% बढ़ाकर 14% कर दिया गया।
-ग्रेच्युटी की सीमा का भुगतान 10 लाख से 20 लाख रुपये बढ़ा दिया गया।
-ईएसआई कवर की सीमा बढ़कर 21,000 रूपये हो गई। न्यूनतम पेंशन भी बढ़कर 1000 रूपये हो गई।

स्वास्थ्य:
-22वां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान हरियाणा में स्थापित किया जाएगा।
-राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के बजट अनुमान को 30,634 करोड़ रुपये से बढ़ाकर पिछले वित्त वर्ष से 32,251 करोड़ रुपये कर दिया गया था।

पूर्वोत्तर:
-2018-2019 के बजट अनुमानों की तुलना में 2019-20 बजट अनुमानों में 21 प्रतिशत तक की वृद्धि करते हुए आवंटन को 58,166 करोड़ रुपये तक बढ़ाया जायेगा।
-अरूणाचल प्रदेश ने हाल ही में वायु मानचित्र पर अपनी उपस्थिति दर्ज की।
-मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम ने पहली बार भारत के रेल मानचित्र पर अपनी उपस्थिति दर्ज की।
-ब्रह्मपुत्र नदी की उन्नत नौवहन क्षमता के माध्यम से कंटेनर कार्गों का आवागमन।

रक्षा:
-रक्षा बजट में पहली बार 3,00,000 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार किया।

रेल:
-बजट से 2019-20 (अनुमानों) में 64,587 करोड़ रुपये की पूंजीगत सहायता का प्रस्ताव किया गया।
-समग्र पूंजी व्यय कार्यक्रम 1,58,658 करोड़ रुपये किया गया।
-संचालन अनुपात के वर्ष 2017-18 98.4 प्रतिशत से 2018-19 के 96.2 प्रतिशत और 2019-20 (बजट अनुमानों) में 95 प्रतिशत तक सुधार।
-अपने इतिहास में रेलवे के लिए सबसे सुरक्षित वर्ष।
-ब्रॉड गेज नेटवर्क पर सभी मानवरहित लेवल क्रॉसिंग को समाप्त कर दिया गया।
-सेमी हाई-स्पीड ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ शुरू की गई – पहली स्वदेशी रूप से विकसित और निर्मित रेल।

प्रमुख निधि आवंटन:
i.2019-20 के बजट अनुमानों के लिए मनरेगा हेतु 60,000 करोड़ रुपये का आवंटन
-वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए, मनरेगा को 55,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए।
-महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा ) देश के ग्रामीण भागों में कम से कम 100 दिनों के लिए प्रत्येक वयस्क को अकुशल मैनुअल काम का वादा करता है। इसे 2005 में पेश किया गया था।
ii.राष्ट्रीय शिक्षा मिशन, बजट अनुमान 32,613 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 38,572 करोड़ रुपये कर दिया गया।
-36,472.40 करोड़ रुपये – प्री-प्राइमरी से 12 वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए स्कूली शिक्षा के लिए है।
iii.2019-20 के लिए नौकरी और कौशल विकास के लिए 5,071 करोड़ रुपये से 7,511 करोड़ रुपये की वृद्धि।
iv.शहरी कायाकल्प मिशन अमृत और स्मार्ट सिटीज़ मिशन: बीई को 2019-20 के वित्तीय वर्ष के लिए 12,169 रुपये से बढ़ाकर 13,900 करोड़ रुपये कर दिया गया।
v.राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत भारतीय खाद्य निगम को खाद्य सब्सिडी: 1,38,123 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,51,000 करोड़ रुपये कर दी गई।
vi.अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी: 6,576 करोड़ रुपये से बढ़कर 7,483 करोड़।
vii.भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण: 29,663 करोड़ रुपये से बढ़कर 36,691 करोड़ रुपये।
viii.प्रत्यक्ष लाभ अंतरण: 16,478 करोड़ रुपये से बढ़कर 29,500 करोड़ रुपये।
ix.यूरिया सहायक: 45,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 50,164 करोड़ रुपये।
x.खेल बजट: 2002.72 (2018-2019) करोड़ रुपये से बढ़कर 2216.92 करोड़ रुपये हो गया।

डिजिटल गांव:
सरकार अगले पाँच वर्षों में 1 लाख गाँवों को डिजिटल गाँवों बनाएगी।

एमएसएमई और व्यापारी:
-जीएसटी में पंजीकृत एसएमई के लिए 1 करोड़ रुपये के वृद्धिशील ऋण पर 2% का ब्याज उपशमन।
-सरकारी उपक्रमों के लिए 25% सोर्सिंग का कम से कम 3% हिस्सा एसएमई स्वामित्व वाली महिलाओं का होगा।
-आंतरिक व्यापार पर नवीनीकृत फोकस; डीआईपीपी का नाम डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ़ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड किया।

राजकोषीय कार्यक्रम:
-वर्ष 2019-20 में राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.4 प्रतिशत।
-राजकोषीय घाटे को 3 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य 2020-21 तक हासिल किया जाएगा।
-राजकोषीय घाटे को 2018-19 आरई में घटाकर 3.4 प्रतिशत तक लाया जाएगा, जो 7 वर्ष पूर्व करीब 6 प्रतिशत था।
-वर्ष 2019-20 में कुल व्यय को 13 प्रतिशत से अधिक तक बढ़ाकर 27,84,200 करोड़ रुपये पर लाया जाएगा।
-वर्ष 2019-20 के लिए पूंजीगत व्यय 3,36,292 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।
-केन्द्र प्रायोजित योजनाओं (सीएसएस) के लिए आवंटन वर्ष 2019-20 में बढ़कर 3,27,679 करोड़ रुपये होगा।
-राष्ट्रीय शिक्षा मिशन के लिए वर्ष 2019-20 में आवंटन करीब 20 प्रतिशत बढ़ाकर 38,572 करोड़ रुपये किया गया।
-एकीकृत बाल विकास योजना (आईसीडीएस) के लिए आवंटन 18 प्रतिशत से अधिक बढ़ाकर 27,584 करोड़ रुपये किया गया।
-अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लिए आवंटन में पर्याप्त वृद्धि-
-अनुसूचित जाति के लिए आवंटन में 35.6 प्रतिशत की वृद्धि कर इसे 76,801 करोड़ रुपये किया गया, जो 2018-19 में 56,619 करोड़ रुपये था।
-अनुसूचित जनजाति के लिए आवंटन में 28 प्रतिशत की वृद्धि कर 2019-20 में इसे 50,086 करोड़ रुपये कर दिया गया है, जबकि 2018-19 में यह 39,135 करोड़ रुपये था।
-सरकार को विश्वास है कि वह 80 हजार करोड़ को विनिवेश लक्ष्य को हासिल कर लेगी।
-राजकोषीय घाटा समेकन कार्यक्रम के साथ ऋण समेकन पर विशेष ध्यान।

मनोरंजन उद्योग:
-भारतीय फिल्म निर्माता, फिल्मों की शूटिंग में सहायता के साथ-साथ एकल खिड़की स्वीकृति सुविधा प्राप्त कर सकेंगे।
-स्व-घोषणा पर और अधिक भरोसे के लिए नियामक प्रावधान।
-चोरी पर नियंत्रण करने के लिए सिनेमेटोग्राफ अधिनियम में एंटी-कैमकॉर्डिंग प्रावधान की प्रस्तुति।

अन्य:
-आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर राष्ट्रीय कार्यक्रम का समर्थन करने के लिए नया राष्ट्रीय आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पोर्टल।
-नीति अयोग के तहत एक नई समिति जो सभी शेष नामांकित और अर्द्ध घुमंतू जनजातियों की पहचान करेगी।
-नए न्यायिक विकास बोर्ड, सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण के तहत विकास और कल्याण के लिए नामांकित खानाबदोश और अर्ध खानाबदोश जनजातियों का कल्याण बोर्ड।

बजट में विजन 2030:
वर्ष 2030 के भारत के लिए विजन के दस आयाम:
i.सहज-सुखद जीवन के लिए भौतिक तथा सामाजिक अवसंरचना का निर्माण करना।
ii.डिजिटल भारत का निर्माण करना जो अर्थव्यवस्था के हर कोने और हर नागरिक तक पहुंचे।
iii.भारत को प्रदूषण मुक्‍त राष्‍ट्र बनाने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों और नवीकरणीय ऊर्जा पर विशेष ध्‍यान देना।
iv.आधुनिक डिजिटल प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके ग्रामीण औद्योगिकीकरण के विस्‍तार के माध्‍यम से बड़े पैमाने पर रोजगारों का सृजन करना।
v.सभी भारतीयों के लिए सुरक्षित पेयजल के साथ स्‍वच्‍छ नदियां और लघु सिंचाई तकनीकों को अपनाने के माध्‍यम से सिंचाई में जल का कुशल उपयोग करना।
vi.सागरमाला कार्यक्रम के प्रयासों में तेजी लाने के साथ भारत के तटीय और समुद्री मार्गों के माध्‍यम से देश के विकास को सशक्‍त बनाना।
vii.अंतरिक्ष कार्यक्रम – गगनयान, भारत दुनिया के उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का ‘लांच पैड’ बन चुका है और 2022 तक भारतीय अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में भेजना इस आयाम को दर्शाता है।
viii.सर्वाधिक जैविक तरीके से खाद्यान्‍न उत्‍पादन और खाद्यान्‍न निर्यात में भारत को आत्‍मनिर्भर बनाना।
ix.स्‍वस्‍थ भारत और एक बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल एवं व्‍यापक आरोग्‍य प्रणाली।
x.न्‍यूनतम सरकार, अधिकतम शासन – सक्रिय, जिम्मेदार, मैत्रीपूर्ण नौकरशाही और इलेक्ट्रॉनिक शासन के साथ।

“केंद्र सरकार ने अंतरिम बजट 2019 के साथ-साथ एक वोट-ऑन-अकाउंट पेश किया”:

एक वोट-ऑन-अकाउंट क्या है?
अनिवार्य रूप से एक वोट का मतलब है कि सरकार व्यय को पूरा करने के लिए संसद की मंजूरी चाहती है – वेतन का भुगतान, विभिन्न क्षेत्रों में चल रहे कार्यक्रम आदि – कराधान संरचना में कोई बदलाव नहीं, जब तक कि एक नई सरकार आती है और एक पूर्ण बजट प्रस्तुत करती है।
क्यों वोट-ऑन-अकाउंट प्रस्तुत करते हैं?
तर्क यह है कि मंत्रालयों और विभागों को विभिन्न अनुदानों के लिए संसद से अनुमोदन प्राप्त करने के लिए, और इन पर बहस करने के साथ-साथ कराधान में बदलाव के लिए समय कम है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि तर्क यह है कि यह नई सरकार को इसकी नीति की दिशा में संकेत देने वाला होगा, जो अक्सर बजट में परिलक्षित होता है।
पूर्ण बजट और खाते पर वोट के बीच अंतर:
पूर्ण बजट, दोनों व्यय और राजस्व पक्ष से संबंधित है, लेकिन वोट-ऑन-अकाउंट केवल सरकार के बजट के व्यय पक्ष से संबंधित है।
वोट-ऑन-अकाउंट आम तौर पर दो महीने के लिए वैध होता है लेकिन पूर्ण बजट 12 महीने (एक वित्तीय वर्ष) के लिए मान्य होता है।
अंतरिम बजट क्या है?
अंतरिम बजट ‘वोट ऑन अकाउंट’ के समान नहीं है। हालांकि ‘वोट ऑन अकाउंट’ केवल सरकार के बजट के व्यय पक्ष से संबंधित है, एक अंतरिम बजट खातों का एक पूरा सेट है, जिसमें व्यय और प्राप्तियां दोनों शामिल हैं। एक अंतरिम बजट, पूर्ण बजट के समान पूर्ण वित्तीय विवरण देता है।
बजट का इतिहास:
-स्वतंत्र भारत का पहला केंद्रीय बजट भारत के वित्त मंत्री आरके सनमुखम चेट्टी द्वारा 26 नवंबर, 1947 को प्रस्तुत किया गया था। भारत गणराज्य का पहला बजट जॉन मथाई द्वारा प्रस्तुत किया गया था।
-पूर्व वित्त मंत्री मोरारजी देसाई ने बजट को पेश कर 10 बार का रिकॉर्ड बनाया है। यह भारत के इतिहास में किसी भी वित्त मंत्री द्वारा सबसे अधिक है। आठ बजट पेश करने में चिदंबरम दूसरे स्थान पर हैं।
-इंदिरा गांधी 28 फरवरी, 1970 को बजट पेश करने वाली पहली महिला वित्त मंत्री थीं।
-7 अप्रैल, 1860 को भारत के वित्त मंत्री जेम्स विल्सन ने ब्रिटिश शासन के तहत भारत का पहला बजट पेश किया गया था।
-2017 से रेल बजट को केंद्रीय बजट में जोड़ा गया।
-सबसे लंबा बजट भाषण पूर्व पीएम डॉ.मनमोहन सिंह ने दिया था, जिसमें 1991 में वित्त मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान 18,650 शब्द थे।
-एचएम पटेल द्वारा 1977 में सबसे कम बजट भाषण दिया गया था जो अंतरिम बजट प्रदान करते हुए दिया गया था।

2018-19 में 314.67 मिलियन टन पर बागवानी फसलों का उत्पादन पिछले 5 वर्षों के औसत से अधिक हुआ है:Horticulture crops production at 314.67 million tonnes in 2018-19i.2017-18 (अंतिम) और 2018-19 (कृषि और सहकारिता कल्याण विभाग) द्वारा जारी बागवानी फसलों के क्षेत्र और उत्पादन का 2018-19 (प्रथम अग्रिम अनुमान) के अनुसार, 2017-18 में बागवानी फसलों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है जो 311.7 मिलियन टन तक पहुंच गया।
ii.रिपोर्ट का सारांश नीचे दी गई तालिका में दिया गया है

कुल बागवानी2016-20172017-2018 (अंतिम)2018-2019 (पहला  अग्रिम अनुमान)
क्षेत्र (मिलियन )24.8525.4325.87
उत्पादन (मिलियन टन)300.64311.71314.67

iii.2018-19 के 1 अग्रिम अनुमान के अनुसार, कुल बागवानी उत्पादन 314.5 मिलियन टन होने का अनुमान है जो पिछले 5 वर्षों के औसत से 8% अधिक होगा।
iv.2017-18 के अंतिम अनुमान के अनुसार, बागवानी फसलों का उत्पादन 2016-17 की तुलना में 3.7 प्रतिशत अधिक था और पिछले 5 वर्षों के औसत से 10% अधिक था।
v.2017-18 के अंतिम अनुमान के अनुसार, फलों के उत्पादन का अनुमान 97.35 मिलियन टन था जबकि सब्जियों का उत्पादन 187.5 मिलियन टन अनुमानित था।
v.2018-19 में प्याज का उत्पादन 23.62 मिलियन टन और आलू के उत्पादन की 52.58 मिलियन टन होने की संभावना है।
vi.अनुमान विभिन्न राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से प्राप्त जानकारी की मदद से बनाया गया है।
कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय:
♦ केंद्रीय मंत्री: राधा मोहन सिंह
♦ राज्य मंत्री: गजेंद्र सिंह, पुरुषोत्तमभाई रूपाला और कृष्णा राज

डीएसी ने 40000 करोड़ रुपये की 6 पनडुब्बियों के स्वदेशी निर्माण को मंजूरी दी:
i.31 जनवरी 2019 को, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने 40,000 करोड़ रुपये की लागत से रणनीतिक साझेदारी मॉडल के तहत परियोजना 75 (भारत) से  6 पनडुब्बियों के स्वदेशी निर्माण को मंजूरी दी।
ii.6 पनडुब्बियों के निर्माण का उद्देश्य सरकार के महत्वाकांक्षी मेक इन इंडिया ’कार्यक्रम को बढ़ावा देना है और यह भारत में पनडुब्बी डिजाइन और विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र को एक प्रमुख बढ़ावा देगा।
iii.स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप (एसपी) मॉडल के तहत यह दूसरी परियोजना है। पहली परियोजना अगस्त, 2018 में 21000 करोड़ की लागत से नौसेना के लिए 111 उपयोगिता हेलीकॉप्टरों का अधिग्रहण था।
iv.डीएसी ने भारतीय सेना के लिए लगभग 5000 फ्रांसीसी मूल की मिलन एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों के अधिग्रहण को भी मंजूरी दी।
रक्षा मंत्रालय:
♦ केंद्रीय मंत्री: निर्मला सीतारमण
♦ राज्य मंत्री: डॉ सुभाष रामराव भामरे
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली

भारत-भूटान संबंधों के 50 वर्षों को चिह्नित करने के लिए 8 वीं शताब्दी के ऋषि पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित हुआ:International conference on 8th century sage held to mark 50 years of India-Bhutan tiesi.भारत और भूटान के बीच राजनयिक संबंधों के 50 साल के औपचारिकरण को चिह्नित करने के लिए, नई दिल्ली में 8 वीं शताब्दी के हिमालयी ऋषि गुरु पद्मसंभव पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया था।
ii.यह सम्मेलन सेंटर फॉर एस्केलेशन ऑफ पीस (सीईपी) द्वारा आयोजित किया गया था और इसे ‘लाइफ एंड लिगेसी ऑफ गुरु पद्मसंभव’ शीर्षक से 29-30 जनवरी को आयोजित किया गया था।
iii.दोनों देशों के विद्वानों ने सम्मेलन में भाग लिया और भारत में पैदा हुए गुरु के बारे में चर्चा की जो 8 वीं शताब्दी में भूटान की ओर चले गए और पूरे हिमालयी क्षेत्र में बौद्ध धर्म और बौद्ध शिक्षाओं का प्रसार किया।
iv.सम्मेलन के अगले चरण में, गुरु पद्मसंभव से जुड़ी दुर्लभ कलाकृतियों को प्रदर्शित करने वाली एक कला प्रदर्शनी भी आयोजित की गई।
भूटान:
♦ राजधानी: थिम्पू
♦ मुद्रा: नेगुलत्रम
♦ प्रधानमंत्री: लोटे टीशिंग
♦ राजा: जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर ने गोवा वार्षिक बजट 2019-20 पेश किया:
i.30 जनवरी 2019 को, गोवा के मुख्यमंत्री, श्री मनोहर पर्रिकर, जो वित्त विभाग भी रखते हैं, ने विधानसभा में 2019-20 के लिए गोवा का वार्षिक बजट पेश किया। 2018-19 में वार्षिक बजट में 17,123.28 करोड़ से बढ़कर 1959.69 करोड़ में पिछले वर्ष की तुलना में 14.16% की वृद्धि हुई है।
ii.पूंजीगत व्यय के लिए आवंटन में 18.29% की वृद्धि हुई थी। 2018-19 में 4216.25 करोड़ रुपये की तुलना में 2019-20 में 4987.45 करोड़ हैं।
iii.इस वर्ष के वार्षिक बजट में, राजस्व खाते पर कुल अनुमानित व्यय 13308.26 करोड़ था।
iv.इस वर्ष के बजट में 455.10 करोड़ रुपये का राजस्व अधिशेष था।
v.2019-20 के लिए जीएसडीपी (सकल राज्य घरेलू उत्पाद) 84888 करोड़ है, जबकि 2018-19 के लिए 77171 करोड़ रुपये की तुलना में लगभग 10% की वृद्धि हुई हैं।
vi.गोवा सरकार ने बजट में कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी), बुनियादी ढांचे और समग्र सतत आर्थिक विकास पर जोर दिया है।
गोवा:
♦ मुख्यमंत्री: मनोहर पर्रिकर
♦ राज्यपाल: मृदुला सिन्हा
♦ राजधानी: पणजी
♦ राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य: मोल्लेम राष्ट्रीय उद्यान, सलिम अली पक्षी अभयारण्य

बैंकिंग और वित्त

आरबीआई ने बैंक ऑफ इंडिया,बैंक ऑफ महाराष्ट्र, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स पर से प्रतिबंध हटा दिया:pcai.भारतीय रिज़र्व बैंक ने 1फरवरी,2019 को तीन बैंकों, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के परिचालन प्रतिबंधों में ढील दी और उन्हें बाहर निकलने की अनुमति भी दी।
ii.ये तीन बैंक 11 सरकारी स्वामित्व वाले बैंकों का हिस्सा थे, जिन्हें 2017 और 2018 में प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन फ्रेमवर्क के तहत रखा गया था। सरकार ने बैंक ऑफ इंडिया के लिए 10,000 करोड़ रुपये का पूंजीगत लाभ दिया, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के लिए 5,500 करोड़ रुपये बैंक ऑफ महाराष्ट्र के लिए 4,500 करोड़ रुपये, जिसने बैंकों को फ्रेमवर्क से बाहर आने में मदद की।
iii.न्यूनतम नियामक पूंजी, शुद्ध एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां) और उत्तोलन अनुपात और परिसंपत्ति की गुणवत्ता में सुधार के मानदंडों के आधार पर, आरबीआई ने प्रतिबंधों में ढील दी और शाखाओं को खोलने और स्वतंत्र रूप से ऋण का विस्तार करने की अनुमति दी।
बैंकों के बारे में:

 बैंक  मुख्यालय सीईओं  टैगलाइन 
ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्सगुरुग्राममुकेश कुमार जैनजहां हर व्यक्ति को प्रतिबद्ध किया गया है
बैंक ऑफ इंडियामुंबईदिनबंधू महापोत्राबैंकिंग से परे संबंध
बैंक ऑफ महाराष्ट्र पुणेरविन्द्र  मराठेवन फैमिली वन बैंक

सरकार ने जनरेटर कंपनियों को डिस्कॉम द्वारा प्रीपेड भुगतान का पता लगाने के लिए समिति का गठन किया:
i.1 फरवरी ,2019 को, कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा की सिफारिश पर, सरकार ने बिजली संयंत्रों को राज्य बिजली वितरण कंपनियों द्वारा प्रीपेड भुगतान का पता लगाने के लिए केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) के तहत एक समिति का गठन किया।
ii.गठित समिति, जिसमें तमिलनाडु और महाराष्ट्र की वितरण कंपनियों के अध्यक्ष शामिल हैं, केंद्रीय बिजली मंत्रालय और बिजली संघों के प्रतिनिधियों को वितरण कंपनियों से बिजली जनरेटर को विलंबित भुगतान की समस्याओं पर ध्यान देगी।
iii.समिति बिजली वितरण कंपनियों और पीढ़ी की कंपनियों के कार्यशील पूंजी चक्रों का अध्ययन करेगी और इस क्षेत्र में बाधाओं में योगदान देने वाले अंतराल की पहचान करेगी।

व्यापार और अर्थव्यवस्था

10-15% तक इलेक्ट्रिक वाहनों के पुर्जों और घटकों पर सरकार ने आयात शुल्क घटाया:
i.29 जनवरी 2019 को, सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहनों के घरेलू असेंबलिंग को बढ़ावा देने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों के पुर्जों और घटकों पर आयात शुल्क को घटाकर 15-30 प्रतिशत से घटाकर 10-15 प्रतिशत कर दिया। नई दरें 30 जनवरी 2019 से लागू होंगी।
ii.इलेक्ट्रिक वाहन के कुछ हिस्सों और घटकों के लिए एक अलग श्रेणी केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क (सीबीआईसी) द्वारा बनाई गई है, जो 10-15% आयात शुल्क को आकर्षित करती है।
iii.सीबीआईसी ने इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए बैटरी पैक पर सीमा शुल्क छूट को हटा दिया है और इसलिए वे आयात पर 5% का कर आकर्षित करेंगे।
iv.मोबाइल फोन के लिए बैटरी पैक पर सीमा शुल्क को सीबीआईसी द्वारा दोगुना कर दिया गया है और इसलिए वे आयात पर 20% का कर आकर्षित करेंगी।
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी):
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली
♦ मूल संगठन: वित्त मंत्रालय

सरकार ने 2017-18 के लिए जीडीपी की वृद्धि दर को 7.2% संशोधित कर 2017-18 के 6.7% से पहले के अनुमान को संशोधित किया:Government revises GDP growth rate to 7.2% for 2017-18Government revises GDP growth rate to 7.2% for 2017-18i.31 जनवरी 2019 को, केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओं), सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ने सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि को संशोधित कर 6.7% के पूर्व अनुमान से 7.2% कर दिया है।
ii.संशोधित जीडीपी विकास दर से पता चलता है कि विमुद्रीकरण का प्रभाव पहले की तरह गंभीर नहीं था। इसलिए विभिन्न अर्थशास्त्रियों ने विकास दरों में संशोधन की आलोचना की है।
iii.मौजूदा कीमतों पर जीडीपी विकास दर जिसे नाममात्र जीडीपी विकास दर भी कहा जाता है, को 2017-18 के लिए संशोधित कर 11.3% से 10% कर दिया गया है।
iv.सीएसओं द्वारा 2016-17 की वास्तविक विकास दर भी 7.1% के पहले के अनुमान से संशोधित कर 8.2% कर दी गई है।
सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय:
♦ केंद्रीय मंत्री: डी.वी.सदानंद गौड़ा
♦ मुख्यालय: नई दिल्ली

मिजोरम सरकार ने सूअर के आयात पर प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया:
i.1 फरवरी ,2019 को, मिजोरम सरकार ने सूअर के आयात पर प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया, क्योंकि पोर्सिन प्रजनन और श्वसन सिंड्रोम (पीआरआरएस) के प्रकोप की संभावना है।
ii.पीआरआरएस रोग को स्वाइन फ्लू भी कहा जाता है, इस बीमारी का वायरस आमतौर पर सूअरों से फैलता है और सूअर और मानव जाति दोनों को प्रभावित करता है।
iii.मूल रूप से म्यांमार से आयात किए गए सूअर संदिग्ध बिंदु पर हैं, अन्य देशों से आयातित सूअरों को भी राज्य में पीआरआरएस के प्रकोप को रोकने के कदम के रूप में प्रतिबंधित किया गया है।
मिजोरम:
♦ राजधानी: आइजोल
♦ मुख्यमंत्री: ज़ोरमथांगा
♦ राज्यपाल: कुम्मनम राजशेखरन

पुरस्कार और सम्मान 

स्वास्थ्य मंत्री ने ग्लोबल पब्लिक हेल्थकेयर में उनके योगदान के लिए राजीव नाथ को प्रशंसा पुरस्कार दिया:
i.30 जनवरी,2019 को, राजीव नाथ को नई दिल्ली में ग्लोबल पब्लिक हेल्थकेयर क्षेत्र में उनके योगदान के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री माननीय अश्विनी कुमार चौबे द्वारा सम्मानित किया गया।
ii.राजीव नाथ को सस्ती मेडटेक पहुंच और मरीजों की सुरक्षा की पहल के लिए स्वास्थ्य सेवा और सामुदायिक सेवाओं के क्षेत्र में उनकी मूल्यवान, उल्लेखनीय और उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया गया।
iii.राजीव नाथ को भारतीय चिकित्सा उपकरण क्षेत्र को बढ़ावा देने और भारत को चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्र में निर्यात संचालित बाजार में नेतृत्व करने के लिए औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग द्वारा राष्ट्रीय चिकित्सा उपकरण संवर्धन परिषद के बोर्ड में सदस्य के रूप में भी नियुक्त किया गया है।

नियुक्तिया और इस्तीफे 

संजीव रंजन को कोलंबिया गणराज्य में भारत के राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया:
i.1 फरवरी 2019 को, विदेश मंत्रालय ने 1993 बैच के भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी संजीव रंजन को कोलंबिया गणराज्य का नया राजदूत नियुक्त किया, जो अर्जेंटीना के वर्तमान राजदूत हैं।
ii.संजीव रंजन का जन्म 1966 में हुआ था और उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में स्नातक और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) से अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में एम.ए. की हैं।
iii.उन्होंने 2006 से 2009 तक मॉरीशस में भारत के उप उच्चायुक्त के रूप में कार्य किया। इसके अलावा वह मैड्रिड और लीमा में भारतीय दूतावासों में राजनयिक पदों पर रहे।
कोलंबिया:
♦ राजधानी: बोगोटा
♦ राष्ट्रपति: इवान डुक
♦ मुद्रा: पेसो

यस बैंक के वरिष्ठ समूह अध्यक्ष प्रलय मोंडल ने अपने पद से इस्तीफा दिया:
i.31 जनवरी 2019 को, यस बैंक के वरिष्ठ समूह अध्यक्ष और खुदरा और व्यापार बैंकिंग के प्रमुख, प्रलय मोंडल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। वह 31 मार्च 2019 तक अपने नोटिस पर काम करेंगे।
ii.प्रलय मोंडल 2012 में यस बैंक में शामिल हुए और उन्हें रजत मोंगा के साथ प्रमोशन मिला, जिन्होंने सितंबर 2018 में यस बैंक के कार्यकारी निदेशक के रूप में वित्तीय प्रबंधन संभाला।
iii.31 जनवरी 2019 को, यस बैंक ने अजय कुमार को नियुक्त किया, जिन्होंने पहले गैर-कार्यकारी निदेशक के रूप में सिंडिकेट बैंक का नेतृत्व किया था, जब तक कि ड्यूश बैंक के रवनीत सिंह गिल 1 मार्च 2019 से पदभार नहीं संभालते।
यस बैंक के बारे में:
♦ मुख्यालय: मुंबई, महाराष्ट्र
♦ संस्थापक: राणा कपूर, अशोक कपूर
♦ टैगलाइन: हमारे विशेषज्ञ का अनुभव करे

विज्ञान और प्रौद्योगिकी

इसरो ने ली-आयन सेल बनाने के लिए 10 फर्मों को सूचीबद्ध किया:
i.29 जनवरी 2019 को, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर, थुम्बा द्वारा विकसित अपनी लिथियम-आयन सेल की तकनीक के हस्तांतरण के लिए 141 कंपनियों की सूची में से नीति आयोग के साथ संयुक्त रूप से 10 कंपनियों का चयन किया।
ii.चुनी हुई कंपनियाँ निम्नलिखित हैं:

कंपनी का नाम  स्थान 
अमारा राजा बैटरीज़ लिमिटेडचित्तूर, आंध्र प्रदेश
भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेडपुणे, महाराष्ट्र
कार्बोरंडम यूनिवर्सल लिमिटेड
कोचि
एक्सिकॉम टेलि-सिस्टम लिमिटेडगुरुग्राम, हरियाणा
जीओंसीएल कोर्पपोरेशन  लिमिटेडहैदराबाद,
ज्योति सीएनसी ऑटोमेशन लिमिटेडराजकोट
नेशनल एल्युमिनियम कंपनी लिमिटेड
भुवनेश्वर
सुखबीर एग्रो एनर्जी लिमिटेडनई दिल्ली
टाटा केमिकल्स लिमिटेड
मुम्बई
थर्मैक्स लिमिटेडपुणे

iii.इसरो ने प्रक्षेपण यान और उपग्रहों में उपयोग के लिए 1.5 एएच से लेकर 100 एएच तक की ली-आयन सेल्स को विकसित किया।
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो):
♦ मुख्यालय: बैंगलोर, कर्नाटक
♦ अध्यक्ष: डॉ के सिवन
♦ गठन: 15 अगस्त 1969

खेल 

दक्षिण कोरियाई फुटबॉलर की सुंग-यूएंग ने सेवानिवृत्ति की घोषणा की:South Korean footballer Ki Sung-yueng announces retirementi.31 जनवरी 2019 को, मिडफील्डर की सुंग-यूएंग ने दक्षिण कोरियाई राष्ट्रीय टीम से अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की।
ii.मिडफील्डर ने हालांकि रूस में 2018 फीफा विश्व कप के बाद रिटायर होने का फैसला किया, फिर भी 2019 एएफसी एशियाई कप में प्रतिस्पर्धा करने का फैसला किया, जो संयुक्त अरब अमीरात में आयोजित हुआ, नए राष्ट्रीय टीम के कोच पाउलो बेंटो के तहत।
iii.उन्होंने  5 सितम्बर 2008 को अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में पदार्पण किया था और आठवें सबसे अधिक दक्षिण कोरियाई खिलाड़ी के रूप में अपने अंतरराष्ट्रीय कैरियर को समाप्त किया।

आईएनएस द्रोणाचार्य ने कोच्चि एरिया बोट पुलिंग रेगाटा 2019 जीता:
i.31 जनवरी 2019 को, आईएनएस द्रोणाचार्य टीम ने कोच्चि में आयोजित (एसएनसी दक्षिणी नौसेना कमान) के एरिया पुलिंग रेगाटा कोच्चि 2019 में रेगेटा ट्रॉफी जीती। यह दक्षिणी नौसेना कमान द्वारा आयोजित सबसे प्रतिष्ठित और पारंपरिक नौसेना खेल गतिविधियों में से एक है।
ii.दक्षिण नौसेना कमान की सभी प्रमुख इकाइयों से गठित बोट पुलिंग रेगाटा में छह टीमों ने भाग लिया, जिसमें नावों को नौसेना के 1.6 किमी की दूरी तय करनी थी और वेंडुरूथी-विक्रांत ब्रिज से एर्नाकुलम चैनल में उत्तरी जेट्टी पर यह दुरी खत्म करनी थी।

साथियान ने शारथ को पीछे छोड़ते हुए 28 वें स्थान पर सर्वोच्च रैंक वाले भारतीय बने, मनिका बत्रा ने टॉप -50 में जगह बनाई:Sathiyan surpassed Sharath to become highest-ranked Indian at 28
i.30 जनवरी ,2019 जनवरी को, भारतीय पैडलर जी साथियान ने विश्व रैंकिंग में 28 वी नई कैरियर रैंक हासिल की।
ii.अपने हालिया खेल में तीन स्थान हासिल करने के बाद उन्होंने शरथ को पीछे छोड़ दिया।
iii.मनिका बत्रा शीर्ष 50 की सूची में शामिल होने वाली भारत की पहली महिला बनीं, उन्होंने खुद को 47 वें स्थान पर रखा।

मिताली 200 एकदिवसीय मैच खेलने वाली पहली महिला क्रिकेटर बनीं:
i.1 फरवरी 2019 को, 36 वर्षीय भारत की महिला क्रिकेट टीम की कप्तान, मिताली राज न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे और अंतिम वनडे के दौरान 200 एकदिवसीय मैच खेलने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनीं।
ii.मिताली राज ने भारत के अब तक खेले गए 263 एकदिवसीय मैचों में से 200 खेले हैं।
iii.मिताली राज ने वनडे में सर्वाधिक रन भी बनाए हैं जो 66.33 की औसत से 6622 है जिसमें 7 शतक शामिल हैं।
iv.वह सभी महिला खिलाड़ियों के बीच सबसे लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय करियर रखती हैं और भारत के सचिन तेंदुलकर, श्रीलंका के सनथ जयसूर्या और पाकिस्तान के मियांदाद के बाद उनका चौथा सबसे लंबा करियर है, यदि हम पुरुषों की टीमों को भी शामिल करते हैं।

वाणी कपूर ऑस्ट्रेलियाई एलपीजीए कार्ड जितने वाली पहली भारतीय बनीं:Vani Kapoor becomes first Indian to grab Australian LPGA cardVani Kapoor becomes first Indian to grab Australian LPGA cardVani Kapoor becomes first Indian to grab Australian LPGA cardi.ऑस्ट्रेलिया के बैलरेट गोल्फ क्लब में पहली बार क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में तीन अन्य के साथ 12 वीं रैंक हासिल करने के बाद गोल्फर वाणी कपूर ऑस्ट्रेलियाई लेडीज पीजीए टूर (एलपीजीए) को जीतने वाली पहली भारतीय बन गई हैं।
ii.कुल 81 खिलाड़ी ने क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में भाग लिया जिसमें से शीर्ष-20 ने एलपीजीए के लिए कार्ड अर्जित किया।
iii.वाणी कपूर ने 71, 78 और 69 के राउंड की शूटिंग के बाद 218 अंक बनाए।
iv.दीक्षा डागर, आस्था मदान और रिधिमा दिलावरी ने भी क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में भाग लिया लेकिन वे एलपीजीए का कार्ड नहीं ले सकीं।
v.दीक्षा डागर और आस्था मदान आगामी ऑस्ट्रेलियाई एलपीजीए प्रो-एम में दो दिवसीय एयूडी 30000 कार्यक्रम में भाग लेंगी।
ऑस्ट्रेलिया:
♦ राजधानी: कैनबरा
♦ प्रधानमंत्री: स्कॉट मॉरिसन
♦ मुद्रा: ऑस्ट्रेलियाई डॉलर

निधन 

पूर्व योजना आयोग के सदस्य और पूर्व आईआईएमसी निदेशक हितेन भाया का निधन हो गया:
i.31 जनवरी 2019 को, पूर्व योजना आयोग के सदस्य और पूर्व-निदेशक भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) हितेन भाया का नई दिल्ली में निधन हो गया।
ii.उन्होंने हिंदुस्तान स्टील के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया था।

महत्वपूर्ण दिन

विश्व आर्द्रभूमि दिवस 2 फरवरी को मनाया गया:
i.विश्व आर्द्रभूमि दिवस मानवता और ग्रह के लिए आर्द्रभूमि के मूल्य पर वैश्विक जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 2 फरवरी को मनाया जाता है।
ii.विश्व आर्द्रभूमि दिवस 2019 का थीम ‘आर्द्रभूमि और जलवायु परिवर्तन’ है।

error: Alert: Content is protected !!